Followers

Monday, January 24, 2011

ऑटोग्राफ भाग तीन

गौरव भागता हुआ अमित के पास आया । भागने के कारण उसकी साँसें फूल रही थी। अमित ने उसके इस तरह भागकर आने का कारण पूछा ....? गौरव ने बताया कि दो महिने पहले जिस कम्पनी में उन दोनों ने नौकरी के लिए आवेदन दिया था उसका इन्टरव्यू के लिए पत्र आया है । इन्टरव्यू अगले सप्ताह की बारह तारीख को है । इन्टरव्यू की खबर सुनकर अमित की खुशी का ठिकाना न रहा । इन्टरव्यू के लिए उन्हें हैदराबाद जाना था । हैदराबाद जाने के लिए उन्होंने तत्काल में रेल टिकट निकलवाई और हैदराबाद के लिए निकले..। इन्टरव्यू दोपहर एक बजे था दोनों अमित और गौरव कम्पनी में बाहर बजे ही पहुँच गए थे । वहाँ जाकर देखा तो दोनों दोस्त वहाँ का नजारा देखकर दंग रह गए । अमित - बाप रे ..... इतने सारे लोग सभी के सभी इन्टरव्यू के लिए। अमित की बात का समर्थन करते हुए गौरव ने भी कहा हाँ यार ऐसा लगता है कि शहर के पूरे लोग यहीं पर आकर ठहर गए हों। अमित और गौरव सहमें से वहाँ पर जा  बैठे जहाँ पर सभी लोग बैठे थे । मन में एक प्रकार की घबराहट थी कि पता नहीं नौकरी मिलेगी कि नहीं ...। एक -एक करके इन्टरव्यू देकर बाहर निकल रहे थे बाहर बैठे सभी लोगों का यही हाल था सब के सब कुछ सहमे से बैठे थे वहाँ पर बैठे सभी लोह अपनी बारी आने का इंतज़ार कर रहे थे । कुछ घंटों इन्तज़ार करने के पश्चात गौरव का नम्बर आया । गौरव को इन्टरव्यू के लिए अंदर गए हुए कम से कम एक घंटा हो गया बाहर अमित की टेन्शन बढ़ती जा रही थी कि पता नहीं अंदर किस प्रकार के प्रश्न पूछे जा रहे हैं। थोड़ी देर बाद गौरव मुस्कुराता हुआ बाहर निकला । गौरव के चेहरे की मुस्कुराहट को देखकर अमित को लगा जैसे उसकी नौकरी पक्की हो गई है। गौरव ने आकर बताया कि यह तो पहला ही राउन्ड था जो उसने क्लीयर कर लिया है अभी तो तीन राउन्ड और बाकी हैं। कुल चार राउन्डस की बात सुनकर अमित और भी घबरा गया । गौरव ने उसे बताया कि अभी तो उसका सामान्यज्ञान और जनरल विषय का ही इन्टरव्यू लिया गया है जो उसने क्लीयर कल लिया है उसने अमित को समझाया कि जो भी वे लोग तुमसे प्रश्न पूछे उसका शांती से सोचकर सही जवाब देना अगर प्रश्न का उत्तर नहीं आता है तो उन्हें सीधे-सीधे मना कर देना  आदि बातें । थोड़ी देर के बाद अमित का नम्बर आया वह इन्टरव्यू के लिए अंदर गया एक घंटे के बाद वह बाहर निकला बाहर आते समय उसके चेहरे पर भी वहीं रौनक थी जो गौरव के चेहरे पर थी। उसका चेहरा देखते ही गौरव समझ गया था कि उसने अपना पहला राउन्ड क्लीयर कर लिया है। इसी तरह दोनों दोस्तों ने एक -एक कर दो राउन्ड तो क्लीयर कर लिए तीसरे राउन्ड में अमित पीछे रह गया अर्थात गौरव ने अपना तीसरा राउन्ड क्लीयर कर लिया अमित तीसरे राउन्ड में बाहर हो गया । अमित का तीसरा राउन्ड क्लीयर न होने की वजह से गौरव भी बहुत दुखी हुआ । अब बारी थी चौथे और आखिरी राउन्ड की अमित बाहर बैठा अपने दोस्त की सफलता के लिए मन ही मन ईश्वर से प्रार्थना कर रहा था । कुछ समय बाद गौरव बाहर निकला गौरव के चेहरे पर एक मायूसी थी , मायूसी थी चौथे राउन्ड में बाहर होने की अर्थात गौरव चौथे और आखिरी राउन्ड में बाहर हो गया । यहाँ पर दोनों दोस्तों को निराशा ही हाथ लगी । हाँ यहाँ आकर उन्हें यह पता चल गया कि इन्टरव्यू में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं । यह उन दोनों का पहला इन्टरव्यू था । दोनों मित्र एक दूसरे का हौसला बढ़ाते हुए यह कहते – ‘कोई बात नहीं यार यह ज़रूरी नहीं कि जिस इन्टरव्यू को हम अटेन्ड करे उस में सलैक्ट भी हो। कोई बात नहीं इस में सलैक्ट नहीं हुए तो क्या  किसी और  कम्पनी में सही.....?’ दोनों हैदराबाद से  दिल्ली के लिए  रवाना हुए । दिल में एक मायूसी तो थी ही लेकिन क्या करे...?
अमित खिड़की के पास बैठा कुछ सोच रहा था। गौरव को लगा कि कही वह फिर से उन बीती बातों यानी कि निधी के बारे में तो नहीं सोच रहा इसीलिए उसने एक नया विषय छेड़ते हुए कहा –‘अरे अमित तुमने बहुत दिनों से कोई शेरोशायरी नही की । आज कुछ सुनाओ ना यार ।
अमित-' नहीं यार अभी शेरोशायरी का मूड़ नहीं है।'
गौरव-‘अरे यार अभी तक तुम्हारा मूंड़ ऑफ है... छोड़ ना यार यहाँ नौकरी नहीं मिली तो क्या हुआ कहीं ना कही मिल ही जाएगी तू चिंता क्यों कर रहा है ? बहुत दिनों से तेरी कोई कविता नहीं सुनी। अपनी कविता या शायरी सुना दे….।’
अमित  - ‘अरे यार अभी मुझे कुछ याद नहीं है....?’
गौरव – ‘अच्छा कोई पुरानी ही सुना दे..।’
अमित - 'तू भी ना.....?'

अब तो सीने में एतबार के खंजर उतर गए , जो बरता एहतियात तो अपने साए से ही डर गए,
अब तो वक्त की ठोकरों में पड़ा सोच रहा हूँ, मेरा दुख दर्द बाँटने वाले वो लोग किधर गए।
शायद जी को सुकूँ मिल जाए दोस्तों के बीच,सुकूँ की तलाश में हम किस -किस के घर चले गए,
दोस्तों के बीच भी हमें सुकूँ ना मिला ,आज उनके बीच ही बेगाने हम हो गए..।
हमने भी जीना चाहा हँसी - खुशी  हमें तो अपने ही जीते जी मार गए,
अब तो सीने में एतबार के खंजर उतर गए , जो बरता एहतियात तो अपने साए से ही डर गए।

गौरव - 'वाह …वाह....!  क्या बात है.....?'
छोड़ इन गम भरी बातों को कब तक उसकी यादों को अपने सीने से लगाकर रखेगा……?
अमित - क्या करुँ यार भूलना तो बहुत चाहता हूँ लेकिन .......?
गौरव - 'क्यों उन बीती बातों को तू अपने सीने से लगाकर बैठा है । छोड़ उन सब बातों को और यह  
       बता कि आगे और क्या करने का इरादा है?'
अमित - 'यार आगे एम. बी.ए. करने का इरादा है लेकिन ......?'
गौरव - 'लेकिन क्या..?'
अमित - "यार एम.बी.ए करने के लिए पैसे भी तो चाहिए और  अभी मेरे परिवार की आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है कि वे मेरी एम.बी.ए. की फीस जमा कर सकें । घर में पिताजी अकेले कमानेवाले हैं। हम तीन भाई बहन  और इस महंगाई में घर का खर्च चलना कितना मुश्किल है यह तो मैं भी जानता हूँ । मम्मी -पापा अपनी छोटी-छोटी खुशियों का बलिदान करके हमे सुखी रखने का प्रयाश करते रहते हैं । हमारा भविष्य बनाने के लिए पिताजी दिन रात मेहनत करते हैं । अब मैं इस लायक हो गया हूँ कि पिता जी का कुछ बोझा हलका कर सकूं तो नौकरी ही नहीं मिल रही ...। धीरे-धीरे करके पूरा एक साल होने जा रहा है। सोचा था कि जैसे ही पढ़ाई खत्म होगी कही न कहीं नौकरी ज़रूर मिल जाएगी लेकिन ....।"
गौरव - कोई बात नहीं यार नौकरी एक न एक दिन मिल ही जाएगी चिंता मत कर ।
अमित और गौरव दिल्ली लौट आए । यहाँ आकर दोनों ने कई कम्पनियों में नौकरी के लिए आवेदन किया । कॉलेज के दोस्तों में केवल गौरव ही था जो लगातार अमित से मिलता रहता था।
दोनों ने साथ-साथ कई कम्पनियों में नौकरियों के लिए आवेदन किया, साथ-साथ कम्पनियों में इन्टरव्यू भी दिया । कुछ समय बाद गौरव को पुणे में एक आई.टी कम्पनी में नौकरी मिल गई लेकिन अमित की नौकरी की तलाश अभी भी जारी थी।

इसी तरह समय का चक्र चलता रहा और अमित उसी में पिसता रहा जहाँ कही जाता निराशा ही हाथ आती । यह बात उसके भी समझ में नहीं आ रही थी कि आखिर उसके ही साथ ऐसा क्यों हो रहा है? यहाँ तक कि गौरव जो कि उससे पढने -लिखने में कम होशियार था उसे भी नौकरी मिल गई लेकिन अमित ने हार नहीं मानी वह लगातार मेहनत करता रहा । अमित के घर की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं थी । अमित बच्चों के ट्यूशन से जितने पैसे कमाता था उसमें से कुछ घर के खर्चे  के लिए माँ को दे दिया करता बाकी  पैसे खुद के खर्चे के लिए रख लेता । इन्टरव्यू के चक्कर में उसके काफी बच्चों ने ट्यूशन छोड़ दिया था क्योंकि अब वह उन बच्चों पर उतना ध्यान नहीं दे पाता था । अब तो गिने चुने पाँच -छह बच्चे ही बचे थे । घर की आर्थिक स्थिति और नौकरी न मिलने के कारण अमित काफी परेशान रहने लगा। अमित की माँ ने उसे समझाया कि परेशानी से किसी समस्या का हल नहीं निकलता । आज नहीं तो कल तुम्हें नौकरी मिल ही जाएगी नौकरी को लेकर इतनी चिंता करना ठीक नहीं है इस तरह तो तुम्हारी तबीयत भी खराब भी हो सकती है ।

गौरव अक्सर अमित को  कॉल करता था यह जानने के लिए कि कही उसे नौकरी मिली की नहीं । एक दिन गौरव ने अमित को अपने पास पुणे आने के लिए कहा । उसने बताया कि यदि वह वहाँ आ जाएगा तो नौकरी ढूँढने में वह भी उसकी कुछ सहायता कर सकता है। अमित को गौरव की बात सही लगी और एक दिन वह पुणें आ गया । यहाँ वह एक पेइन्ग गैस्ट की तरह रहने लगा । यहाँ आकर उसके सामने सबसे बड़ी समस्या नौकरी पाने की थी और दूसरी नया शहर न को जान-पहचान का केवल गौरव है जिसे वह इतने बड़े शहर में जानता है। यहाँ आकर अमित ने कुछ आई.टी. कम्पनियों में नौकरी के लिए अपलाई कर दिया था । वह रोज़ सा ही किसी ना किसी कम्पनी में इन्टरव्यू देने के लिए जाता लेकिन अभी तक उसे नौकरी नहीं मिल पाई । जहाँ कही भी वह इन्टरव्यू के लिए जाता उसके ज्ञान की प्रशंसा तो सब लोग करते लेकिन साथ ही साथ नौकरी करने का अनुभव भी मांगते । नौकरी करने का अनुभव अमित को था नहीं ...। यहाँ आकर अमित और परेशान रहने लगा एक तरफ परिवार की आर्थिक स्थिति दूसरी तरफ खुद का बेरोज़गार रहना उसे बहुत परेशान करता रहता था ।
एक दिन दोपहर का समय था अमित खाना खाने के लिए बैठा पहला निवाला खाने के लिए हाथ बढ़ाया ही था कि सेलफोन पर कॉल आया कॉल किसी अन्जान का था। निवाला वापस थाली में रखते हुए फोन लिफ्ट किया ।
अमित- ‘हैलो’
फोन पर सारी बातें सुनकर वह थोड़ी देर के लिए समझ ही नही पाया कि जो कुछ उसने सुना क्या वह सब सही है..........।
उसने पास उसका दोस्त भी बैठा खाना खा रहा था, अमित को भौचक्का देखकर दोस्त ने पूछा कि ‘क्या बात है तुम ऐसे भौचक्के क्यों रह गए । किसका फोन था ...सब कुछ ठीक तो है ना .... ।’
अमित की खुशी का ठिकाना नही था अपने दोस्त को गोदी में भरते हुए कहा कि जिस कम्पनी में पिछले सप्ताह उसने इन्टरव्यू दिया था उस कम्पनी में उसकी नौकरी पक्की हो गई है और ऑफर लैटर लेने कि लिए सोमवार को बुलाया है। अमित यह कहते कहते भावुक हो गया उसकी आँखों से खुशी के आँसू गिरने लगे ।
अमित का दोस्त यह देखकर कि नौकरी मिलने की खुशी में सब लोग तो खुश होते है और यह कि रोने लगा ….।
अमित ने बताया कि वह गम के आँसू नहीं खुशी के आँसू हैं । कितने दिनों से नौकरी पक्की होने की खबर सुनने के लिए उसके कान तरस गए थे ।
इस खुशी की खबर को सुनने के बाद अमित से थाली में रखा खाना भी न खाया जा सका ।
उसने ये दो दिन शनिवार और रविवार किस तरह से काटे थे यह तो वही जानता है। सोमवार की सुबह  दस बजे वह उस कम्पनी के लिए निकल चला आज उसकी खुशी का ठिकाना न था । वह सोच रहा था कि पहले अपोइन्मेन्ट लैटर मिल जाए फिर वह घर पर मम्मी -पापा को यह खुशखबरी सुनाएगा। कुछ समय बाद वह अपनी मंज़िल तक पहुँच ही गया । वहाँ पर कुछ घंटों इन्तज़ार करने का बाद उसे अपना अपोइन्मेन्ट लैटर मिला। दो दिन के बाद उसे नौकरी ज्वाइन करनी थी । वहाँ से सीधा घर आया और सबसे पहले घर  फोन करके यह खुशखबरी दी फिर गौरव को । आज सचमुच उसकी खुशी का ठिकाना नहीं था, बार-बार ईश्वर को धन्यावाद देता .। वह दिन भी आया जिस दिन उसे अपना ऑफिस ज्वाइन करना था । आज उसका पहला दिन था ऑफिस में नौकरी मिलने की खुशी उसके चेहरे पर साफ देखी जा सकती थी फिर भी एक अनजाने भय की छाया भी देखी जा सकती थी शायद आज उसका ऑफिस में पहला दिन है इसी लिए वह थोड़ा सा भयभीत है।
अमित के ऑफिस ज्वाइन करने के कुछ महीनों बाद उसे कम्पनी की तरफ से पाँच दिन की  वर्कशॉप  के लिए  भेजा गया। इस वर्कशॉप में कई कम्पनियों के नए ज्वाइन किए हुए एम्प्लोय आए हुए थे । यहाँ पर अमित का बहुत से नए लोगों के साथ परिचय हुआ , नए लोगों के साथ काम करने का मौका मिला इन पाँच दिनों में यहाँ पर उसके मित्रों का एक समूह बन गया था । नए मित्रों के साथ उसका भी मन लग रहा था । वर्कशॉप के अंतिम दिन वहाँ पर आए सभी लोगों को कुछ ना कुछ प्रेसेंट करना था । किसी ने गाना गाया किसी ने नाच प्रस्तुत किया किसी ने जोक्स कहे…।  अमित और उसके दोस्तों को विषय दिया गया था  जीवन में धन की महत्ता  जिसे उन्हें एक हास्यात्मक नाटक के रुप में प्रस्तुत करना था। अमित और उसके दोस्तों ने वह नाटक बखूबी प्रस्तुत किया ।
पाँच दिनों के बाद वर्कशाप समाप्त करके  अमित फिर से  कम्पनी में पहुँचा।  कम्पनी ज्वाइन करके छह-सात महीनें बीत चुके हैं । अमित के कामों में अक्सर कोई न कोई कमी रह जाती है। वह अभी तक अपने अतीत की यादों से पूरी तरह से बाहर नहीं निकल पाया है। उसी कारण वह अपने काम में पूरी तरह ध्यान नहीं लगा पाता जिसके कारण उसकी बनाई हुई रिपोर्टस में कोई न कोई कमी रह जाती है।  यहाँ पर उसके कुछ दोस्त बने जब उन्हें पता चलता है कि अमित की बनाई हुई रिपोर्टस में अक्सर गलतियाँ हो जाती तो वे लोग उसकी सहायता करते हैं। ऐसा नहीं है कि अमित को विषय की जानकारी नही है उसे विषय की बराबर जानकारी है लेकिन क्या करे अभी तक वह अपने अतीत से बाहर नहीं आ सका है ...। जैसे-जैसे समय बीतता गया वैसे-वैसे उसके अतीत की यादें भी धूमित होती चली गयीं। अपने आप को कम्पनी के कामों में इतना व्यस्त कर लिया था कि साँस लेने तक की फुरसत नहीं थी । कम्पनी हर साल अपने कर्मचारियों में से कुछ कर्मचारियों को एम.बी.ए की शिक्षा के लिए चुनती है । एम.बी.ए की पढ़ाई का खर्चा कम्पनी ही देती है। अमित की मेहनत का ही परिणाम  था कि कम्पनी द्वारा बीस हजार कर्मचारियों में से चुने गए दस कर्मचारियों में उसका भी नाम था । जब उसे यह सूचना मिली कि कम्पनी की तरफ से एम.बी.ए करने का मौका मिला है तो उसकी खशी का ठिकाना न रहा...अमित ने तुरंत यह खबर अपने मम्मी -पापा ,अपने दोस्त गौरव को सुनाई। किसी ने सच ही कहा है मेहनत का फल हमेशा माठा होता है। आज उसे लग रहा था कि ईश्वर के घर देर है अँधेर नहीं....।

समय भी न जाने मनुष्यों के साथ कैसे -कैसे खेल खेलता है । जिस कॉलेज से अमित और उसके अन्य साथी एम.बी.ए करते है उसी कॉलेज से निधी भी एम.बी.ए कर रही है । न अमित को इस बात का पता था कि निधी भी इसी कॉलेज से एम.बी.ए कर रही है और ना ही निधी को पता था कि अमित भी इसी कॉलेज से एम.बी.ए कर रहा है। आखिर एक दिन दोनों अमित और निधी का आमना सामना हो ही जाता है। निधी और अमित एक दूसरे को अपने सामने देखकर चौक गए । निधी को अपने सामने खड़ा देखकर अमित को लगा कि ज़रूर यह उसका भ्रम है .. निधी की तो शादी हो चुकी है अब पता नहीं वह कहाँ होगी ...। लेकिन  जब निधी ने उसे हाय ... कहा तो उसे यकीन हुआ कि वह निधी ही है जो उसके सामने खड़ी है..। उस दिन बस हाय...हैलो तक ही बात हुई। उस रात अमित बहुत बेचैन रहा कि अब वह क्या करे ....? जिसे भुलाने में उसे वर्षों लग गए है आज वह फिर उसके सामने आकर खड़ी हो गई है । एक साल पहले के अमित और आज के अमित में ज़मीन-आसमान का फर्क है ...। अमित ने मन ही मन फैसला किया कि अब वह निधी के किसी भी बहकावे में नहीं आएगा उसे अब अपने कैरियर को बनाना है बस और कुछ नहीं…..।

इसी कॉलेज में अमित की दोस्ती वैशाली नाम की लड़की से होती है जो निधी और अमित दोनों की दोस्त है । कुछ दिनों बाद अमित को पता चलता है कि निधी की जिस लड़के के साथ शादी हुई थी एक साल के अंदर ही दोना का तलाक भी हो गया है।  एक दिन निधी ने वैशाली से संदेश भिजवाया कि वह अमित से मिलकर कुछ बात करना चाहती है । निधी ने वैशाली को अपने और अमित के विषय में सब कुछ बता दिया था ...। जब अमित ने भी निधी से मिलना स्वीकार कर लिया । एक दिन वे दोनों मिले.....निधी ने अपना दुखड़ा अमित को कह सुनाया .... अमित ने उसका दुखड़ा सुना लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं दी ...। अमित ने उसे समझाया कि जो कुछ हो गया है उसे वह बदल तो नहीं सकता , लेकिन अब वह उसके लिए और कुछ नहीं कर सकता… । निधी यह देखकर हैरान थी कि क्या यह वही अमित है जो कभी उसकी एक आहट पर जान न्यौछावर करने को तैयार रहता था। अमित, निधी  के भावों को समझ गया… लेकिन उसने उससे कुछ नहीं कहा । कुछ समय निधी के साथ व्यतीत करने के पश्चात अमित ने निधी से कहा  ‘देखो निधी अब मैं जीना चाहता हूँ…., जीवन में कुछ बनना चाहता हूँ उम्मीद करता हूँ कि तुम ......... और वह चला गया । अमित के मुख से इस प्रकार के वाक्य सुनकर वह सन्न रह गई। उस दिन के पश्चात अमित ने निधी की तरफ न देखा और न किसी प्रकार की कोई बात की...। निधि से हुई मुलाकात को उसने एक बुरा सपना समझकर भुला दिया । एम.बी.ए की पढ़ाई समाप्त हो गई। अमित वापस अपनी कम्पनी में एक और ऊँचे पद पर कार्य करने लगा ... ।  
यह सब सोचते -सोचते अमित सो गया। अगले दिन सुबह दस बजे उसकी छोटी बहन ने आकर उसे जगाया। अपनी छोटी बहन को सामने देखकर वह चौक गया ... ‘छोटी तू यहाँ ….?’
‘भैया मैं यहाँ नहीं तो कहाँ होगीं..?’
‘ओह ! शायद मैं सपना देख रहा था ....?’
‘अच्छा जल्दी से उठो और नहा धोकर आ जाओ चाय नाश्ता तैयार है।’
‘अच्छा तू चल मैं आता हूँ’- कहकर अमित ने छोटी बहन को भेज दिया । जैसे ही वह उठने लगा उसकी ऑटोग्राफ की किताब नीचे गिर गयी । किताब के साथ-साथ उसमें रखी एक पुरानी तस्वीर भी नीचे गिर गयी । यह तस्वीर क़ॉलेज के  दोस्तों की थी । उस तस्वीर के पीछे उसके कुछ दोस्तों के फोन नम्बर भी लिखे हुए थे । उसने फोटो और ऑटोग्राफ की किताब उठाकर टेबल पर रख दी और नहाने के लिए बाथरूम में चला गया। जैसे ही वह बाथरूम से निकला उसके फोन पर गौरव का फोन आया। गौरव के फोन को देखकर वह बहुत खुश हुआ।
अमित- 'हैलो "
गौरव –‘अबे आज-कल तो बहुत बिज़ी हो गया है एक फोन करने तक का समय भी नहीं मिलता है..।’
अमित- ‘यार तू तो जानता है ऑफिस में कितना काम रहता है...।’
गौरव-  ‘अच्छा यह बता अभी  कहाँ पर है।’
अमित –‘ दिल्ली ।’
गौरव – ‘क्या बात कर रहा है ? कब आया तू दिल्ली..?’
अमित – ‘दो दिन हो गए यार.. और तू बता कहाँ है तू।’
गौरव – ‘यार मैं भी कल ही दिल्ली आया हूँ । अच्छा सुन .... ।’
अमित – ‘बोल ना..।’
गौरव- ‘कोई तुझसे बात करना चाह रहा है..?’
अमित – ‘कौन…?’
गौरव – ‘अब यह तो तू उसकी बातें सुनकर पहचान कर लेना।’
अमित – ‘अबे.. बता ना कौन है...?’
गौरव – ‘ले उससे बात कर ... ।’
     अमित ने जब उस व्यक्ति से बातें करना शु डिग्री किया तो पहले वह उसे पहचान नहीं सका कुछ देर बाद उसकी समझ में आ गया कि वह उसके कॉलेज का दोस्त जयकुमार है। यह वही जयकुमार था जिसे ब्लड कैंसर हो गया था, अमित और उसके दोस्तों ने मिलकर उसके इलाज के लिए पैसे इकट्ठे किए थे।
जयकुमार को फोन पर पाकर वह एक दम चौक गया । उससे बातें करने के बाद पता चला कि वह दिल्ली में ही  भारतीय स्टेट बैंक में काम करता है । अमित ने उससे कॉलेज के दोस्तों के विषय में पूछा कि क्या वह अब भी उन दोस्तों के सम्पर्क में है या नहीं ? उसने बताया कि ज्यादा तो नहीं पर हाँ एक -दो  मित्रों से उसकी अक्सर मुलाकात होती रहती है।  अमित ने सब दोस्तों से मिलने की इच्छा जताई और कहा कि आज दोपहर दो बजे के बाद सब लोग उसी कॉलेज में मिलेंगे जहाँ से सब लोग अलग हुए थे । अमित ने सभी को दोपहर दो बजे का समय दिया। गोविन्द से बातें करने के बाद उसने सुबह का नाश्ता किया और अपने दोस्तों से मिलने के लिए चला गया। कॉलेज घर से थोड़ा दूर ही था । जैसे ही वह उस इलाके में पहुँचा वहाँ का नज़ारा देखकर वह दंग रह गया जहाँ कभी छोटे-छोटे घर हुआ करते थे, वहाँ उनके स्थान पर बड़े-बड़े अपार्टमेंन्ट खड़े हो गए हैं।  थोड़ी देर के बाद वह अपने कॉलेज जा पहुँचा कॉलेज भी पूरी तरह बदल चुका था । कॉलेज के सामने दो छोटे -छोटे मॉल बन चुके थे । कॉलेज की मुख्य इमारत उन मॉलों के बीच दबकर रह गई थी । दो सालों में हुए इस बदलाव को देखकर अमित भौचक्का रह गया ।  सबसे पहले पहुँचनेवालों में अमित ही था। उसके बाद गौरव और जयकुमार आए धीरे-धीरे एक दो दोस्त और आए । आज ये लोग एक दूसरे से वर्षों बाद मिल रहे थे ...सब एक दूसरे को देखकर यही सोच रहे थे कितने बदल गए हैं सब ...। सभी दोस्त एक दूसरे के गले मिल और एक दूसरे सी राजी-खुशी पूछी सभी कॉलेज के अंदर गए और उसी जगह जाकर बैठ गए जहाँ कभी उनका सारा ग्रुप बैठा करता था । थोड़ी देर बैठने के बाद  चारो-पाँचों दोस्त एक साथ अपने लैक्चररों से मिलने चले गए । कॉलेज के प्रांगड़ में  अमित की नज़र एक पेड़ के नीचे बैठे कुछ बच्चों पर गई वे लोग एक दूसरे से हँसी- मजाक कर रहे थे कुछ एक दूसरे से किसी विषय पर बहस कर रहे थे यह सब देखकर  उसे अपने उन दिनों की यादों में खो गया जब वे लोग भी कभी इसी प्रकार वहाँ पर बैठा करते थे………..उसने अपने दोस्तों से कहा ‘अरे यार हम लोग भी कभी इसी प्रकार उस पेड़ की छाँव में इकट्ठे होकर बैठते थे कितना हँसी -मजाकर किया करते थे...?’सभी दोस्तों ने उस पेड़ की तरफ देखा और सभी ने एक साथ कहा ‘हाँ यार  कॉलेज के वे दिन भी क्या थे…… ?’ सभी कॉलेज के दिनों की उन मीठी यादों में खो गए……………।

----------------     समाप्त    -----------------------------

Wednesday, January 12, 2011

ऑटोग्राफ भाग दो

“अच्छा चल खाना खा ले” - माँ ने कहा
अमित- “तुम चलो मैं आता हूँ।”
अमित  अपनी ऑटोग्राफ किताब को मेज पर रखकर खाना खाने चला गया । आज काफी दिनों के बाद माँ के हाथों का बना खाना खा रहा है। घर से बाहर रहकर नौकरी करनेवालों के लिए यह तो आम बात है। खाना खाने के बाद वह अपने छोटे भाई -बहन के साथ खेल में लग गया । खेलते- खेलते शाम हो गई थी।  शाम को टहलने के लिए घर से बाहर निकल गया । बाहर आकर उसने महसूस किया कि कितनी जल्दी यह दुनिया बदलती है, कुछ ही वर्षों पहले जिन गलियों में  अपने मित्रों के साथ खेलता था , जिनकी गूंज से सारी गलियाँ चहक उठती थी आज उसे वे अंजानी सी लग रही हैं । गलियाँ लोगों से भरी हुई हैं लेकिन आज वह उस भरी भीड़ में अकेला सा महसूस कर रहा है। बार -बार वह यही सोचता काश वो दिन फिर से लौट आएँ ....... ।  यह तो वह भी जानता है कि बीता हुआ समय कभी लौटकर नहीं आता जीवन में केवल बीते समय की  कुछ खट्टी -मीठी यादें ही रह जाती हैं। टहलते- टहलते वह उन सभी गलियों में गया जहाँ कभी उसकी मित्रमंडली खेला करती थी । धीरे- धीरे रात का  अँधेरा गहरा रहा था। कुछ घंटों बाहर घूमने के बाद वह घर वापस लौट आया । घर आकर उसने परिवार के साथ रात का खाना खाया ,परिवार के साथ कुछ समय बिताने के बाद अपने कमरे में चला गया वहाँ जाकर उसने फिर से अपनी ऑटोग्राफ की किताब उठा ली फिर उन पुरानी यादों को ताजा करने लगा अपने स्कूल के मित्र जिन्हें छोड़कर वह दिल्ली शहर में आ बसा था । एक-एक कर वह उस किताब के पन्ने पलट रहा था आठ -दस पन्ने पलटने के बाद वह कुछ रुक गया । अगले पन्ने से उसकी कुछ गहरी यादें जुड़ी थी । इस पन्ने में उसकी प्रेमिका ने  कॉलेज की फेयरवेल पार्टी  के बाद लिखा था ....
“जीवन की राह पर हम मिले ना मिले
याद तुम्हारी दिल में बसी रहेगी सदा।
राह फूलों भरी हो या हो काटों भरी
सुख में साथ सभी देते हैं ,दुख में साथ तुम्हारे मैं हो लुँगी
ना हो यकी तो आज़मा लेना ......।”
वह अपने कॉलेज के दिनों में खो गया..............।

आज अमित का कॉलेज में पहला दिन है , नया शहर नया कॉलेज सब कुछ नया वह बहुत डरा हुआ था पता नहीं कैसे लोग होंगे यहाँ के वह सहमा सा खड़ा था उसने नोटिस बोर्ड पर  अपनी कक्षा की जानकरी कर ली थी । अपनी कक्षा की जानकारी करके जैसे ही वह मुड़ा तो एक लड़का भागता हुआ आया उसके पीछे कुछ और लड़के भागे आ रहे थे वहाँ पर खड़े कुछ लैक्चररों ने उसे पकड़ लिया जब उन्होंने उसके भागने का कारण जाना तो उस लड़के की पिटाई कर दी । दर असल वह लड़का  अपने कुछ साथियों के साथ झगड़ा करके उनमें से एक की  बुरी तरह से पिटाई करके भाग रहा था उस लड़के के सिर से खून बह रहा था । कोई पुराना झगड़ा था ,कुछ लड़के उसे अस्पताल लेकर जा रहे थे । पहले ही दिन इस प्रकार की घटना देखकर अमित का दिल बैठा जा रहा था । उसे लग रहा था कि न जाने मैं किस प्रकार के माहौल में आ गया हूँ पहले ही दिन यह सब देखने को मिल रहा है तो आगे क्या होगा........? पहला दिन था पुराने विद्यार्थी अपने दोस्तों से मिलकर चहक रहे थे, अमित को रह रहकर अपने दोस्त याद आ रहे थे वह सोच रहा था कि यदि वह अपने पुराने शहर के किसी कॉलेज में होता तो वह भी इसी तरह अपने दोस्तों से मिल रहा होता। बार-बार उसके मन में  एक ही सवाल उठ रहा था कि क्या उसे फिर वैसे दोस्त मिलेंगे जिन्हें वह पीछे छोड़कर आया है ? यही सोचते -सोचते वह उस कक्षा तक जा पहुँता जहाँ सभी विद्यार्थियों को इकट्ठा होने के लिए नोटिस  बोर्ड पर लिखा गया था , सकुचाता सा वह कमरे के अंदर घुसा कमरा विद्यार्थियों से खचाखच भरा हुआ था । अंदर पहुँचकर अपने बैठने के लिए जगह खोजी और वहाँ जाकर बैठ गया । सभी लोग वहाँ पर बैठे आपस में गपशप कर रहे थे कोई किसी से अपना परिचय कर रहा है कोई अपने मित्रों से नए लोगों का परिचय करवा रहा है।

अमित इस कॉलेज में ही नहीं बल्कि शहर में भी नया था सो उसे अपनी पहचान का कोई भी नहीं मिला तभी उसके पास खाली कुर्सी पर एक छात्र आकर बैठा वह भी अमित की तरह ही सहमा हुआ था कुछ देर तो दोनों शांत बैठे रहे फिर उस छात्र ने जो अभी अमित के पास आकर बैठा था उसने बात करने की पहल करते हुए अपना परिचय दिया । उसने अपना नाम गोविन्द बताया और बताया कि वह  भी इस शहर और कॉलेज में नया है मूलत: वह जयपुर शहर का रहनेवाला है ।  इसी महीने  दिल्ली आया है पढाई करने के लिए । अमित  ने भी अपना परिचय गोविन्द से किया । आज दोनों का कॉलेज में पहला दिन था दोनों एक दूसरे का साथ पाकर कुछ राहत सी महसूस कर रहे थे। कॉलेज में आए नए विद्यार्थियों का स्वागत किया गया । कॉलेज का पहला दिन तो ऐसा ही गुजरा परिचय करने कराने में । एक दिन कॉलेज के सीनियर छात्रों ने अमित की कक्षा के सभी विद्यार्थियों की रैगिंग की अमित बहुत सहमा हुआ था । उसने रैगिंग के बारे में सुन रखा था कि सीनियर छात्र अपने जूनियर छात्रों के साथ बहुत बुरी तरह से रैगिंग करते हैं लेकिन यहाँ तो वैसा कुछ नहीं था । सीनियर छात्रों ने केवल रैगिंग के नाम पर सब छात्रों के नाम पूछे और उनसे एक -एक गाना गाने को कहा । धीरे-धीरे समय बीतने लगा देखते ही देखते एक साल पूरा गुजर गया दूसरा साल भी आधा  बीत गया। अब तक कॉलेज में उसके दोस्तों का एक अच्छा खासा ग्रुप बन चुका था । अमित अपने ग्रुप से सभी का चहेता था । सभी लोग उससे प्रेम करते थे वह भी अपने दोस्तों का सदैव साथ देता था चाहे पढ़ाई हो या खेल वह हमेंशा अपने दोस्तों के कांधे से कांधा मिलाकर चलता था । अमित की दोस्ती निधी नाम की लड़की से होती है । दोस्ती कब प्यार में बदल गई पता ही नहीं चला अब तो हालत यह थी कि एक दूसरे के बिना कुछ अच्छा ही नहीं लगता था साथ पढ़ना , साथ घूमना और कभी -कभी तो कॉलेज का भी बंक हो जाता था ।

 दूसरे साल अमित का ध्यान पढ़ाई से हट चुका था इसका ही नतीजा था कि उसका दूसरे साल का रिजल्ट गिर चुका था कहाँ अस्सी प्रतिशत लानेवाला छात्र और कहाँ साठ प्रतिशत ।  अमित के दोस्तों ने उसे समझाया कि प्यार करना कोई बुरी बात नहीं पर तुम्हें अपनी पढ़ाई पर भी ध्यान देना होगा ..... अगर ऐसा ही चलता रहा तो हो सकता है इस साल तुम फिर और नीचे स्तर पर पहुँच जाओ। अमित को भी अपने दोस्तों की बताई हुई बात समझ में आ गई कि यह सही है प्यार करना कोई गलत बात नहीं किन्तु प्यार से ही तो जीवन में आगे नहीं बढ़ा जा सकता है । जीवन में आगे बढ़ने के लिए उसे पढ़ाई के बाद नौकरी करनी होगी ....। उसने निधी को भी समझाया और खुद ने भी पढाई में मन लगाया जिसका नतीजा यह आया कि उसने उस साल कॉलेज टॉप किया था ।

अमित जितना पढ़ने -लिखने में होशियार था उतना ही  दूसरों की मदद के लिए तत्पर रहता था । अमित की उदार ह्रदयता का एक उदाहरण देखने को मिलता है जब उसके एक साथी जयकुमार को ब्लड कैंसर हो गया था और उसके पास अपना इलाज करवाने के लिए पैसे नहीं थे जब अमित को पता चला कि उसका दोस्त इस प्रकार की भयंकर बीमारी से जूझ रहा है और उसके पास इलाज करवाने के लिए पैसे नहीं हैं उस दिन अमित जयकुमार के माता-पिता से मिलने उसके घर पर गया वहाँ जाकर देखा तो पता चला कि सचमुच उसकी आर्थिक स्थिति कितनी खराब है। अपने दोस्तों को अपने पास देखकर जयकुमार बहुत खुश हुआ खुशी कुछ ही क्षण उसके मुख पर रही फिर खुशी एक अंजाने दुख के पीछे छिप गई । अमित और उसके दोस्तों को देखकर जय की माँ की आँखों से आँसू बहने शुरू हो गए । अमित ने जय की माँ को आश्वासन दिया कि वे लोग जय के इलाज के लिए कुछ न कुछ ज़रूर करेंगे । अमित ने जय के माता -पिता के सामने संकल्प लिया कि वे लोग जय का इलाज ज़रुर करवाएंगे । कुछ देर जय के पास ठहरने के बाद अमित और उसके अन्य साथी वहाँ से चले आए । अमित के मन में जय के इलाज के लिए पैसे कैसे इकट्ठा होंगे यही बात चल रही थी । तभी उसे ख्याल आया क्यों न सभी दोस्त मिलकर जय के इलाज के लिए चंदा इकट्ठा करे तभी जाकर उसका इलाज संभव हो पाएगा। अमित की निस्वार्थभाव सेवा को देखते हुए कॉलेज प्रशासन ने भी अपनी तरफ से जय के इलाज के लिए दस हजार रुपए का चंदा दिया । अमित और उसके दोस्तों ने  पाँच दिनों में दो लाख रुपए जमा कर लिए थे। उन पैसों से उसने अपने दोस्त को एक नया जीवन दिलवाया ।

समय बीतता गया और कॉलेज का वह दिन भी आ गया जिस दिन उन्हें उस कॉलेज से विदा होना था । आज कॉलेज का वार्षिकोत्सव है। अमित को कई खेल-कूद प्रतियोगिताओं  में प्रथम आने के लिए पुरस्कार दिया गया , कॉलेज में टॉप करने के लिए उसे कॉलेज की तरफ से एक हजार एक रुपए का पुरस्कार भी मिला और ‘बेस्ट स्टुडेन्ट ऑफ इयर’ का अवार्ड भी अमित को ही मिला । इतने सारे पुरस्कार पाकर वह खुश तो बहुत था किन्तु अपने कॉलेज को छोड़ने का एक दुख भी साफ-साफ देखा जा सकता था उसकी नजरों में आज वह हँस तो रहा था किन्तु दिल से नहीं उसे पता है आज के बाद वह उस कॉलेज का हिस्सा नहीं रहेगा आदि बातें सोचने लगता है..वह यह भी जानता है कि एक न एक दिन उसे कॉलेज तो छोड़ना ही है पर....... आज उसे वह दिन फिर से याद आ गया जब वह अपने स्कूल के मित्रों से बिछड़ कर यहाँ आया था । एक वह दिन था और आज का दिन है । अमित अपने उस अतीत में फिर से खो गया आज अमित को किसी दूसरे शहर नहीं जाना था बल्कि जीवन की यथार्थ स्थिति में जो जाना है । अब तक तो बस यह था कि खाना खेलना पढ़ना यही था किन्तु जीवन की भागा दौड़ी में तो अब उसे शामिल होना है ,सबसे पहले नौकरी पानी है ...... । उससे ज्यादा उसे इस बात का दुख था कि आज वह अपनी प्रेमिका से भी बिछड़ रहा है फिर पता नहीं कब मिले , मिले भी या नहीं क्या पता जीवन का क्या भरोसा कब क्या हो जाए   उस क्षण जब अमित और निधी अलग हुए थे तब निधी ने उसे उसकी ऑटोग्राफ किताब में लिखा था ...
“जीवन की राह पर हम मिले ना मिले
याद तुम्हारी दिल में बसी रहेगी सदा।
राह फूलों भरी हो या हो काटों भरी
सुख में साथ सभी देते हैं ,दुख में साथ तुम्हारे मैं हो लुँगी
ना हो यकी तो आज़मा लेना ......।”
अमित को क्या पता थी कि जो पंक्तियाँ निधी उसकी ऑटोग्राफ किताब में लिख रही है वह मात्र लिखने के लिए ही लिख रही है ....।

कॉलेज की पढ़ाई भी समाप्त हो गयी कुछ दिन अमित ने दिल्ली में ही नौकरी की खोज की लेकिन .. ..? नौकरी की खोज जारी थी ...। एक दिन अमित अपने कमरे में बैठा टी.वी देख रहा था कि  निधी का कॉल आया अमित ने कॉल उठाया .......। निधी की बातें सुनकर अमित के पैरों तले की ज़मीन खिसक गई। निधी ने बताया कि उसके पिताजी ने उसकी शादी तैय कर दी है ।  अगले महीने की बीस तारीख को उसकी शादी है। अमित के लिए यह एक चौकानेवाली खबर थी । उसने निधी से पूछा भी कि वह किसी और से शादी कैसे कर सकती है। उसने वादा भी किया था कि वह जीवन में उसी के साथ विवाह करेंगी..... क्या हुआ उस वादे का ....? निधी ने उसके किसी भी प्रश्न का कोई जवाब नहीं दिया । उसके पास कोई जवाब होता तो देती ना । उसने कभी उससे सच्चा प्रेम किया होता तो उसके दर्द को महसूस करती, उसने तो उसे सिर्फ एक मोहरे की तरह उसे इस्तमाल किया था। अब कॉलेज की पढ़ाई खत्म हो चुकी थी , अब उसका  कोई काम नहीं था .... । अमित ने कई बार पूछा लेकिन निधी ने एक प्रश्न का भी जवाब नहीं दिया । अमित समझ गया कि वह उससे विवाह ही नहीं करना चाहती । निधी ने ‘अमित तुम मेरी परेशानी को समझो ......?’  कहकर फोन रख दिया। 
 
अमित समझ नही पा रहा था कि निधी ने आखिर ऐसा क्यों किया जब कॉलेज में थी तो वह उसके बिना एक पल भी नहीं रह पाती थी आज उसने उसे छोड़कर किसी और को पसंद करके शादी करने का भी फैसला कर लिया .....। कॉलेज के समय ही अमित ने उससे शादी के विषय पर बात भी की थी । निधी ने बताया था कि उसे अमित से शादी करने में कोई एतराज़ नहीं है और ना ही उसके घरवालों को फिर अचानक यह सब .....? उसकी समझ में  नहीं आ रहा था कि निधी पहले झूठ बोल रही थी या अब। वह अपनी इसी कश्मकश में बैठा सोच रहा था कि यह सब क्या हो रहा है…..?  उसका एक दोस्त गौरव जो उसके घर के पास ही रहता है आया गौरव ने जब अमित को उदास देखा तो उसकी उदासी का कारण जाना । गौरव को जब यह पता चला कि वह निधी को लेकर परेशान है तब गौरव ने उसे बताया कि निधी को कभी उससे प्यार था ही नहीं वह तो केवल उसका इस्तमाल कर रही थी एक मोहरे की तरह उसे पता था कि अमित कॉलेज में होशियार लड़का है और वही उसे उसके नोट्स बनाने में उसकी मदद कर सकता है इसीलिए उसने उसके साथ प्यार का यह झूठा नाटक किया था। गौरव ने बताया कि वह और उसके दोस्त इस बात को बहुत पहले से जानते थे किन्तु उन्होंने इस बात को राज़ ही रखा क्योकि वे जानते थे कि तुम निधी को ज़ी-जान से चाहते हो अगर तुम्हें यह सब पता चलेगा तो तुम उनकी बातों पर यकीन नहीं करोगे और यदि यकीन कर भी लेते तो तुम्हारा डिग्री का रिजल्ट बिगड़ जाता । उसकी शादी तो चार महीने पहले ही तैय हो चुकी थी, वे लोग इस बात को भी जानते थे किन्तु उस समय परिक्षाओं  की तैयारी में लगे होने के कारण किसी ने उसे इस बात को बताना उचित नहीं समझा.......। गौरव ने अमित को समझाया कि जो होता है अच्छे के लिए ही होता है।  शायद इसी में तुम्हारी कोई भलाई छिपी हो ....। अब अपनी पुरानी बातों को भूल कर अपने आगे के भविष्य की सोचो .....। अमित एक बुत सा बना गौरव की बातें सुन रहा था अभी भी उसे यकीन ही न  हीं हो रहा था कि….. निधी उसके साथ ऐसा फरेब कर सकती है..। कुछ समय बाद गौरव चला गया । अमित को लग रहा था जैसे आज उसके शरीर में प्राण ही ना हों.. रह -रह कर उसे निधी के साथ बिताया हुआ हर पल हर लम्हा याद आ रहा था । भोली-भाली  मासूम सी दिखने वाली निधी ऐसा भी कर सकती है उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा था ।  
अमित बिना किसी से बात किए अपने कमरे में जा बैठा …….। उसकी आँखों से आँसू की बूँदे टपकने लगी…..।  तभी माँ ने उसे आवाज़ दी ..
माँ- “अमित चल खाना खा ले नहीं तो ठंडा हो जाएगा ..।”

माँ ने उसे दो - तीन बार पुकारा तब जाकर वह खाना खाने के लिए चला तो गया किन्तु आज तो जैसे उसकी भूख ही मर चुकी थी उसे कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा था । एक रोटी खाकर वह उठ गया । माँ के खाना न खाने की वजह पूछने पर उसने बता दिया कि आज वह थोड़ा बहुत बाहर ही खाकर आया था इसीलिए ज्यादा भूख नहीं है...। वह चुप चाप अपने कमरे में चला गया ..। निधी की तस्वीर उसकी आखों से हटने का नाम ही नहीं ले रही थी । बार -बार वह अपने मन को दिलासा देता कि चलो कोई बात नहीं वह जहाँ भी रहेगी कम से कम खुश तो रहेगी ... पर क्या करे जितना अपने मन को निधी की यादों से हटाना चाहता है उतना ही ज्यादा वह याद आती जा रही थी । क्या करे दिल है कि मानता नहीं। यह स्वीकार करने को तैयार ही नहीं कि जिसे उसने चाहा, अपना सबसे अज़ीज माना उसने उसके साथ इतना बड़ा विश्वाशघात किया है । जिसे आज तक वह अपना समझता था  कुछ ही  दिनों बाद किसी और की हो जाएगी। उस रात उसे नींद ही नहीं आई सारी रात यही सोचता रहा कि निधी ने ऐसा क्यों किया .....? अगली सुबह उसने निधी को फोन किया और उससे मिलने के लिए कहा लेकिन निधी ने उससे यह कहकर मिलने से मना कर दिया कि अब वह घर से बाहर नहीं निकल सकती घर में शादी की तैयारियाँ चल रही हैं । घर से बिना कारण वह बाहर नहीं जा सकती अगर वह घर से बाहर जाएगी भी तो उसके साथ कोई न को घर का बड़ा व्यक्ति रहेगा ....। एक वह समय था जब अमित निधी को कही घूमने के लिए कहता तो वह तुरंत तैयार हो जाती थी । तब तो उसे घर या कॉलेज में किसी से डर नहीं लगता था फिर आज अचानक घरवालों से इतना कैसे डरने लगी। अमित ने निधी से कहा कि वह  केवल आखिरी बार मिलना चाहता है एक बार उसे देखना चाहता है ।  अमित ने निधी को आश्वाशन दिया कि वह उसे शादी करने से नहीं रोक रहा बस एक बार उससे मिलना चाहता है, उसे एक बार जी भरकर देखना चाहता है। निधी ने उसकी बातों को अनसुना करके फोन रख दिया ।  

अमित को गौरव द्वारा बताई हर एक बात पर यकीन हो गया कि गौरव जो कह रहा था वह सब सही है। क्या कभी उसने मुझसे प्रेम किया ही नहीं फिर वह सब क्या था .......? हाँ वह उसको चाहती ही नहीं थी । वह सब उसका दिखावा था, फरेब था …। देखते ही देखते निधी की शादी भी हो गई वह अपनी ससुराल चली गई ।इन दिनो अमित बहुत उदास रहने लगा घरवालों को लग रहा था कि वह नौकरी न मिलने की वजह से परेशान रह रहा है। कहते हैं ना कि समय एक ऐसा मरहम है जो बड़े से बड़े घाव को भी भर देता है। अमित ने भी अपने आप को निधी की यादों से बाहर निकाले के लिए अपने आप को इतना व्यस्त कर लिया कि कुछ भी इधर - उधर का  सोचने के लिए समय ही नहीं मिलता था अब वह घर पर ही बच्चों को ट्यूशन पढ़ाता था । उसकी मेहनत और विषयों की अच्छी  जानकारी के कारण उसके पास  पंद्रह- बीस  बच्चे ट्यूशन पढ़ने आने लेगे । किन्तु अमित के जीवन का लक्ष्य बच्चों को ट्यूशन पढ़ाना नही था ...। इस दर्द को तो वही महसूस कर सकता है जिस पर बीतती है। अमित के दोस्त जानते थे कि आज कल वह इतना व्यस्त क्यों हो गया है । उसके दोस्तों ने भी उसका पूरा साथ दिया कभी भी उसे यह महसूस नहीं होने दिया कि वह अकेला है...। दोस्तों के प्यार और अपनी मेहनत के बलबूते पर उस गम से वह धीरे-धीरे बाहर आने लगा। धीरे- धीरे यह समय भी बीता और एक दिन.......?
क्रमश.
आगे की कहानी  कुछ ही दिनों में......
    

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.